• सैम्पल लेने के बाद भी घूमता रहा क्षेत्र में 
  • 35 से 40 लोगों के घरों में ठीक किया था केबल 
  • उसके घर व आसपास से निकले सात और पॉजिटिव 
  • हॉट स्पॉट क्षेत्र में नहीं दिखा लॉक डाउन का असर 

24 April 2020, Friday

(लखनऊ/VMN) डर है कि कहीं केबल ऑपरेटर अपने नाका क्षेत्र के बिरहाना इलाके के लिए कोरोना बम साबित न हो। यह हम नहीं कह रहे बल्कि परिस्थितियां बयां कर रही हैं।

21अप्रैल को नाका क्षेत्र के बिरहाना इलाके के निवासी एक केबल ऑपरेटर का स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा सैंपल लिया गया और इसी के साथ उसको घर पर ही रहने के लिए टीम ने हिदायत दी। टीम की हिदायत को नकारते हुए यह केबल ऑपरेटर 22 अप्रैल को क्षेत्र के  लगभग 35 से 40 घरों में केबल से संबंधित सर्विस देता रहा। इस दौरान यह क्षेत्र के 100-150 लोगों के संपर्क में भी आया। ऐसी ही जानकारी मिल रही है कि पांडेगंज स्थित एक राशन की दुकान पर किसी काम से यह केबल ऑपरेटर पहुंचा जहां दुकानदार ने यह कहते हुए घर जाने को वापस कहा कि तुम्हारा कोरोना टेस्ट हुआ है घूमो फिरो नहीं,  घर पर रहो। इस बात को लेकर केबल ऑपरेटर गुस्से में आ गया और उसने दुकानदार से बहस करते हुए कहा कि टेस्ट हुआ है कोई मैं कोरोना पॉजिटिव थोड़े नहीं हूं। दुकानदार ने उसकी एक न सुनी और उसको वहां से तत्काल हटा दिया। 23 अप्रैल को रिपोर्ट पॉजिटिव आई और क्षेत्रीय लोगों के नीचे से जमीन खिसक गई। 

इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सर्वे शुरू किया और उसके संपर्क में आए लोगों के सैंपल लिए जिसमें आज 7 लोगों को  कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। इसके साथ लगभग 70 लोगों के और सैंपल लिए गए हैं जिनकी रिपोर्ट 25 अप्रैल को आना संभावित है।

  वहीं अगर हम क्षेत्र की बात करें तो 23 अप्रैल को हॉटस्पॉट घोषित हो जाने के बावजूद इस इलाके में कोई खास फर्क नहीं पड़ता है। नाका क्षेत्र के बिरहाना इलाके से लेकर राजेंद्र नगर, रानीगंज व आस पास के सभी क्षेत्रों में 24 अप्रैल को भी लॉक डाउन का कोई असर नहीं दिखाई दिया। लोग आम दिनों कि तरह ही बेखबर आते जाते रहे। उनको किसी तरह के संक्रमित होने का खतरा ज़रा भी नहीं सता रहा था और बिना पुलिस प्रशासन से डरे बेखौफ बैरिकेटिंग हटाकर दो पहिया चार पहिया वाहन दौड़ते रहे। इस बीच पुलिस कर्मी भी क्षेत्र से नदारद दिखाई दिए। 

 पुलिस प्रशासन ने उस पर नज़र क्यों नहीं रखी और उसको घर पर ही क्वॉरेंटाइन क्यों नहीं किया गया। ऐसे में सात लोगों के और पॉजिटिव आने पर इलाकाई लोगों में भी खौफ व्याप्त हो गया है। 

इस सम्बन्ध में नाका थाना इंस्पेक्टर सुजीत दुबे ने बताया कि उसके घर के आस पास के सभी इलाकों में बैरी केटिंग कर दी गई है और किसी को घर से नहीं निकलने दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि संक्रमित सभी लोगों को घर पर ही क्वारनटीन किया जा रहा है। साथ ही आस पास के इलाकों के सभी लोगों के सैम्पल भी लिए जा रहे है। ये पूछे जाने पर कि 21 को ज़ब केबल ऑपरेटर का सैम्पल लिया गया तो फिर वह क्षेत्र में खुलेआम कैसे घूमता रहा। इस बीच 22 अप्रैल को वह करीब 35 से 40 लोगों के घर केबल भी ठीक करने गया। इस पर इंस्पेक्टर ने बताया कि उसको घर पर ही रहने को कहा गया था। अगर उसने बात नहीं मानी और उसकी वजह से लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि होती है तो उस पर क्वारंटीन के बाद कार्रवाई भी की जाएगी।