• 16 अफ्रीकी देश और 40 देशों के रक्षामंत्री लेंगे हिस्सा
  • 70 से ज्यादा देश और 1000 से ज्यादा इन्नोवेटर्स रहेंगे मौजूद 
  • 856 भारतीय कंपनियां और 100 से अधिक विदेशी कंपनियां भी  आ रही हैं 
  • डिफेंस एक्सपो 2020 का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे उद्घाटन
  • डिफेंस एक्सपो से बढ़ेंगे रोजगार के अवसर, युवाओं को मिलेगा लाभ
  •  रक्षा क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने में सहायक होगा डिफेंस एक्सपो 2020
  • रक्षामंत्री व मुख्यमंत्री ने मीडिया को गिनाई  देश की उपलब्धियां

Archana Sharma

(लखनऊ/VMN) डिफेंस एक्सपो 2020 में 16 अफ्रीकी देश और 40 देशों के रक्षामंत्री हिस्सा ले रहे हैं। उत्तर प्रदेश वैश्विक संबंधों का सूत्रधार बनने जा रहा है। यह देश का सबसे बड़ा डिफेंस एक्सपो है जिसमें 70 से ज्यादा देश और 1000 से ज्यादा इन्नोवेटर्स हिस्सा ले रहे हैं। 856 भारतीय कंपनियां और 100 से अधिक विदेशी कंपनियां भी हिस्सा ले रही है। यह जानकारी डिफेंस एक्सपो के कर्टन रेजर में लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान गोमती नगर में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंगलवार को बोलते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने दी। उन्होंने कहा कि डिफेंस एक्सपो के उत्सव में हम सभी मित्र देशों की डिफेंस टेक्नोलॉजी से रूबरू होंगे।

रक्षामंत्री ने बताया कि इस कार्यक्रम का एकमात्र उद्देश्य देश को सुदृढ़, सशक्त और समृद्धशाली बनाना है। आज पूरे विश्व में भारत की एक अलग पहचान है। दुनिया के सभी देश अब भारत के साथ मिलकर चलने को अपनी शान समझते हैं। डिफेंस एक्सपो में दुनिया में तेजी से बदल रही टेक्नोलॉजी को सुनने, समझने और देखने का मौका मिलेगा। एक्सपो का आयोजन मेक इन इंडिया को प्रमोट करने के उद्देश्य से भी किया जा रहा है। डीकैट समाप्त होते-होते भारत बड़ी आर्थिक शक्ति बन कर उभरेगा। हमारा भारत दुनिया की टॉप 3 इकोनामिक में आकर खड़ा हो जाएगा। इसके लिए डिफेंस सेक्टर सबसे बड़ी भूमिका निभाएगा. डिफेंस एक्सपो में इन्नोवेटर्स, मैनुफैक्चरर्स, मार्केट लीडर्स और प्रोफेशनल्स मौजूद रहेंगे। यह एक  मेगा इवेंट है. इसका लक्ष्य भारत को 5 मिलियन डॉलर की इकोनामी बनाना है। उन्होंने कहा कि जब आप लीक से हटकर काम करते हैं तो कई तरह की कठिनाइयाँ आपके सामने आती हैं। कुछ लोग आपकी आलोचना भी कर सकते हैं। उन्होंने जीवन के चार सूत्र बताते हुए कहा कि अब हम सारी कठिनाइयों को पार करते हुए अपने लक्ष्य पर पहुंच गए हैं जो डिफेंस एक्सपो के रूप में आपके सामने है। अब तो विरोधी भी समझ गए हैं कि यह सरकार जो ठान लेती है वह करके ही दम लेती है। उन्होंने कहा कि पहले ऐसे और इतने बड़े कार्यक्रम दिल्ली या उसके आसपास के क्षेत्रों में ही होते थे लेकिन अगर हमें देश के बारे में सोचना है तो इस तरीके के कार्यक्रम देश के अन्य हिस्सों में करना भी जरूरी है। इसी वजह से देश के कई बड़े कार्यक्रमों का आयोजन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में किया जा रहा है। ऐसे कार्यक्रमों से यहां के युवाओं की क्षमता को भी लाभ मिलेगा। ऐसे कार्यक्रमों से रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। हम चाहते हैं कि हमारे युवा डिग्री लेकर इधर-उधर न घूमे और अराजक न बने। डिफेंस एक्सपो से रोजगार के तमाम अवसर उपलब्ध होंगे। 

अयोध्या कुशीनगर और वाराणसी में इंटरनेशनल एयरपोर्ट

इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि अयोध्या कुशीनगर और वाराणसी में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का काम तेजी से चल रहा है। 5 फरवरी से शुरू हो रहे एक्सपो का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। यह कार्यक्रम 9 फरवरी तक चलेगा। इस दौरान डिफेंस की ताकत न केवल पूरे देश बल्कि विदेश को भी देखने को मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि डिफेन्स  क्षेत्र में निवेश के लिए उत्तर प्रदेश में असीम संभावनाएं है। सरकार ने डिफेंस कॉरिडोर की पूरी तैयारी कर ली है। मुख्यमंत्री ने बताया कि हमारे पास 25000 एकड़ लैंड बैंक है जो डिफेंस कॉरिडोर के लिए चयनित 6 नोड्स के करीब ही है। उत्तर प्रदेश देश का ऐसा पहला राज्य होगा जहां अपने देश में निर्मित यात्री विमान का उपयोग किया जाएगा।

 29 फरवरी को होगा बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का शिलान्यास…. 

 मौके पर मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने बताया कि देश की प्रगति में एक और नया अध्याय जुड़ने जा रहा है। 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का शिलान्यास करने जा रहे हैं। बुंदेलखंड की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी बनेगा. कहा कि आवश्यकता हुई तो गंगा एक्सप्रेसवे को हम हरिद्वार तक ले जाएंगे। 

 200 से ज्यादा MOU पर मुहर लगने की उम्मीद… 

इस मौके पर रक्षा मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी डॉ अमित सहाय ने बताया की डिफेंस एक्सपो रक्षा का डिजिटल परिवर्तन टाइमलाइन पर आधारित है। यह एशिया की सबसे बड़ी रक्षा प्रदर्शनी है। इसमें न केवल लोगों को रक्षा हथियारों को देखने का मौका मिलेगा बल्कि उसका डेमो भी लोगों को रोमांच कर देगा। एक्सपो में  1028 कंपनियां हिस्सा ले रही है जिसमें 272 कंपनियां विदेशी हैं इस प्रदर्शनी में 500 बी 2 बी मीटिंग होगी, जिसमें 200 से ज्यादा MOU पर मुहर लगने की उम्मीद है। इस मौके पर इंडिया अफ्रीका डिफेंस मिनिस्टर कॉन्क्लेव का भी आयोजन होगा। 15 अफ्रीकी देशों के रक्षामंत्री भी शामिल होंगे। 6 फरवरी को इंडिया रशिया इंडस्ट्रियल मिलिट्री कॉन्फ्रेंस होगी जिसमें रसिया के उद्योग मंत्री और भारत के रक्षामंत्री सहित तमाम लोग हिस्सा लेंगे। इस मौके पर 5  MOU साइन होने की उम्मीद है। इस मौके पर उन्होंने इंडिया पवेलियन और यूपी पवेलियन की भी जानकारी दी।

डिफेंस एक्सपो में पुलिस की तकनीक व ताकत देख सकेंगे लोग

डिफेंस एक्सपो में यूपी पुलिस अपनी तकनीक व ताकत का प्रदर्शन करेगी। पुलिस के स्टाल पर 112 आपात सेवा, कुंभ, एटीएस और यूपी काप ऐप का प्रदर्शन किया जाएगा। स्टाल पर आने वाले आगंतुकों को आपात सेवा 112 की ओर से लोगों के लिए शुरू की गई विभिन्न योजनाओं की जानकारी मिलेगी तो आतंकवादियों के दांत खट्टे करने वाली यूपी एटीएस के घातक हथियार भी देखने को मिलेंगे। तकनीक का सहारा लेते हुए आम आदमी बिना थाने गए कैसे पुलिस की मदद ले सकता है, इसकी जानकारी भी पुलिस के स्टाल पर यूपी काप ऐप के माध्यम से दी जाएगी।

पिछले वर्ष संपन्न हुए कुंभ के आयोजन पर एक फिल्म भी पुलिस के स्टाल पर चलाई जाएगी। फिल्म के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया गया है कि प्रदेश की पुलिस ने इतने बड़े आयोजन को कैसे सफल बनाया। कुंभ का सफल आयोजन देश ही नहीं वरन विदेशों के शैक्षिणिक संस्थानों के लिए भी शोध का विषय है।स्टाल पर दर्शाया जाएगा कि यूपी पुलिस सिर्फ कुंभ जैसे बड़े आयोजनों को संपन्न कराने में ही महारत नहीं रखती बल्कि समय आने पर राष्ट विरोधी तत्वों व आतंकवादियों को भी धल चटाने की ताकत रखती है। डिफेंस एक्सपो में यूपी एटीएस की स्नाइपर, एमपी 5, क्वाड बाइक, रोप लांचर, पावर एसेंडर जैसे आधुनिक साजो सामान को भी प्रदर्शित किया जाएगा। विषम परिस्थितियों में रेकी करने के लिए उपयोग होने वाले आधुनिक फाइबर आप्टिकल कैमरे का प्रदर्शन भी पुलिस इस मौके पर करेगी।

पुलिस के स्टाल पर यूपी काप ऐप का प्रदर्शन किया जाएगा. ऐप के माध्यम से आगंतुकों को बताया जाएगा कि कैसे तकनीक का प्रयोग कर कोई भी बिना थाने चौकी गए अपनी शिकायत ऐप के माध्यम से पुलिस में दर्ज करा सकता है। 112 आपात सेवा की सवेरा, महिला पीआरवी आदि सेवाओं का लाभ आम जनमानस कैसे उठा सकता है, इसकी जानकारी भी पुलिस के स्टाल पर आसानी से मिलेगी।