• पूरे शहर को करा रही हैं सेनेटाइज़
  • प्रतिदिन खर्च हो रहा है 5 से 10 लाख रुपये
  • गलियों में साइकिल से किया जा रहा है छिड़काव
  • अभी तक प्रयागराज में एक भी मामला कोविड-19 का नहीं

(प्रयागराज/VMN) जहाँ एक ओर पूरा देश कोरोना वायरस के भय में जी रहा है और उससे लड़ने का पुख्ता इंतज़ाम कोई नहीं सुझा पा रहा है वहीं प्रयागराज की मेयर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने अपने पूरे शहर को सेनेटाइज़ करने का अभियान चला रखा है। 

उनका यह सूझबूझ से भरा कदम कोरोना वायरस को रोक पाने में काफी कुछ अहम भूमिका अदा करेगा वहीं यह भी बता दें कि अभी तक शहर में एक भी कोरोना वायरस से संक्रमित मामला नहीं आया है। यहां पर जलकल विभाग की गाड़ियों से दवाइयों का प्रेशर के साथ छिड़काव किया जा रहा है, जिन गलियों में बड़ी गाड़ियां नहीं पहुँच सकतीं वहां पर साइकिल व पैदल दवाइयों का छिड़काव किया जा रहा है। प्रयागराज में कुल 80 वार्ड है और 40 वार्ड में 135 से अधिक  मलिन बस्तियाँ हैं। इन सभी की गली, मोहल्लों, नालियों आदि में दवा का छिड़काव किया जा रहा है। 

इस सम्बन्ध में प्रयागराज मेयर अभिलाषा गुप्ता नंदी ने बताया कि ज़ब पूरे देश में एक दिन के लिए लॉक डाउन हुआ था तभी से पूरे  शहर को सेनेटाइज़ करने का अभियान शुरु कर दिया। पूरे प्रयागराज शहर में 80 वार्ड है और सभी वार्ड के पार्षद इस कार्य में पूरी तन्मयता से लगे हुए हैं। प्रतिदिन 5 से 10 लाख रुपये सेनेटाइज़ करने में आ रहा है। पूरा प्रयागराज सेनेटाइज़ हो चूका है लेकिन इस अभियान को रोका नहीं जायेगा. हांलाकि सामग्री अब एक हफ्ते की ही बची है पर और सामग्री मंगाने का बंदोबस्त किया जा रहा है। हमारे यहां एक भी मरीज सामने नहीं आया है इसीलिए और भी एहतियात बरत रहे हैं कि जिले क़ी  जनता स्वस्थ रहे। सरकारीआंकड़ों की बात की जाए तो प्रयागराज शहर की जनसंख्या 11 लाख 50 हजार है लेकिन अगर अनुमानित आंकड़ों की बात की जाए तो शहर की जनसंख्या 19 से 20 लाख  के आसपास बताई जाती है।

घर से भी कर रहीं हैं जागरूक 

लॉक डाउन होने के बाद भी मेयर अभिलाषा गुप्ता नंदी अपनी जिम्मेदारियों को नहीं  नहीं भूल रही हैं। वह प्रतिदिन विभिन्न क्षेत्रों का निरीक्षण कर साफ सफाई और दवा   डालने का निरीक्षण करती हैं। इसके बाद जब वह घर पर होती हैं तब भी लोगों को कोविड-19 से सुरक्षित रहने के  लिए सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करने के लिए जागरूक करती रहती हैं। इसके लिए उनकी सहायता उनके द्वारा बनाए गए विभिन्न में सोशल साइट उनके अकाउंट करते हैं।  हजारों की संख्या में उनके समर्थक हैं जो उनसे जुड़े हुए हैं और उनके संदेशों को आगे प्रेषित करते हैं। वह अपील करती हैं कि कोविड-19 से सुरक्षा रखने वाले सभी संदेश लोगों को ज्यादा से ज्यादा अपने सोशल साइट अकाउंट पर शेयर करने चाहिए इससे बहुत कम समय में और सुरक्षित रहते हुए लोगों को जागरूक किया जा सकता है। वह यह भी बताती हैं कि उनके सोशल अकाउंट पर विभिन्न प्रकार की समस्याओं के निदान के लिए लोगों की शिकायतें आती हैं जिनको वह अभिलंब दूर करने का प्रयास करती हैं। उन्होंने बताया की उनके दो फोन नंबर जिस पर सुबह से ही वह उपलब्ध रहतीं हैं। पूरा दिन फोन चालू रहता है। वह बताती हैं कि अगर किसी गली में कूड़ा पड़ा है या कोई और शिकायत आती है तो उस पर तुरंत एक्शन लिया जाता है और कूड़ा आदि उठवाया जाता है। इसी के साथ किसी आदमी को भेजकर पूरे क्षेत्र को सेनेटाइज़ कराया जाता है। 

घर पर ही उपलब्ध कराया जा रहा है राशन…. 

नगर निगम के माध्यम से पूरे जिले के ठेले वाले, ई रिक्शा वालों का डाटा एकत्र किया जा रहा है। इस काम के लिए सभी पार्षदों को निर्देशित किया गया है कि राशन कार्ड और आधार कार्ड के आधार पर मजदूरों को तीन महीने का राशन भी दिया जायेगा. जो गरीब है उनको दाल, चावल, आटा, प्याज़, टमाटर आदि सामग्री के पैकेट बनाकर वितरित किये जा रहे हैं। कुछ समाज सेवी भी इस कार्य से जुड़े हुए हैं। नगर निगम के माध्यम से बार बार लोगों से अपील की जा रही है कि घर से न निकलें उनको घर पर ही राशन पहुँचाया जायेगा। इसके लिए सभी पार्षद अपने अपने वार्ड में पूरी मुस्तैदी के साथ कार्य कर रहे हैं। 

खाली समय बीत रहा पौधों के साथ 

मेयर ने बताया कि घर पे रहने के दौरान उनका सबसे ज़्यादा समय पौधों के साथ बीतता है। पौधों को खाद पानी देने का काम वह करतीं हैं साथ ही वह खाना भी खुद ही पकातीं हैं।