• कानपुर में बेचने के लिए लाया जा रहा था भारी मात्रा में गांजा
  • संगठित गिरोह को जिला आजमगढ़ में किया गया गिरफ्तार
  • इनके पास से नगद के साथ ही कई अन्य सामान भी किए गए हैं बरामद

(लखनऊ/VMN) एसटीएफ उत्तर प्रदेश ने अंतरराज्यीय  स्तर पर अवैध मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले संगठित गिरोह के चार सदस्यों को जिला आजमगढ़ से गिरफ्तार किया है। इन लोगों को  520 किलोग्राम अवैध मादक पदार्थ गांजा की तस्करी करते हुए गिरफ्तार किया गया है, जिसका अंतरराष्ट्रीय बाजार भाव लगभग 1.30 करोड़ रुपए है। 

गौरतलब है कि काफी दिनों से एसटीएफ उत्तर प्रदेश द्वारा पूर्वोत्तर भारत के राज्यों से अवैध मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले गिरोह के विरुद्ध कार्यवाही के लिए अभियान चलाया जा रहा था। इस सम्बन्ध में  अमिताभ यश पुलिस महानिरीक्षक एसटीएफ उत्तर प्रदेश एवं विशाल विक्रम सिंह प्रभारी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ उत्तर प्रदेश लखनऊ ने एसटीएफ की विभिन्न इकाइयों व टीमों को सतर्क किया था। इसी के चलते प्रमेश कुमार शुक्ल पुलिस उपाधीक्षक के पर्यवेक्षण में एसटीएफ मुख्यालय की एक टीम द्वारा कार्रवाई प्रारंभ की गई। एसटीएफ टीम को गोपनीय सूचना प्राप्त हुई कि एक मालवाहक ट्रक संख्या WB23 E3763 डिब्रूगढ़ (असम) से आजमगढ़ आने वाला है, जिसमें भारी मात्रा में गांजा छिपाकर रखा गया है। इस  पर उपनिरीक्षक पंकज कुमार सिंह के नेतृत्व में एसटीएफ की टीम आजमगढ़ भेजी गई तथा एनसीबी लखनऊ के जोनल डायरेक्टर को एनसीबी की टीम भेजकर अपेक्षित सहयोग के लिए कहा गया एसटीएफ टीम द्वारा जनपद आजमगढ़ पहुंचकर पतारसी सुरागरसी की कार्यवाही प्रारंभ की गई। इस दौरान एनसीबी लखनऊ की टीम भी एसटीएफ टीम से आकर मिली और संयुक्त कार्रवाई प्रारंभ हुई। 15 मार्च 2020 को सुबह एसटीएफ व एन सीबी टीम द्वारा संयुक्त रूप से आजमगढ़ वाराणसी राजमार्ग निकट बाग़ लखरांव पुल थाना क्षेत्र कोतवाली नगर आजमगढ़ पर ट्रक की घेराबंदी कर पकड़ लिया गया, जिससे सामान की बरामदगी हुईं। 

गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ की गई तो पता चला कि राम कुमार चौरसिया निवासी मोतीगरपुर सुलतानपुर नाम के व्यक्ति की कोलकाता में कपड़े की दुकान है, जिसका यह ट्रक है जिसे राकेश मौर्या चलाता है। सामान्यतः ट्रक उत्तर प्रदेश में ही चलाया जाता है। गाड़ी का फिटनेस खत्म हो जाने के कारण राम कुमार ने गाड़ी को कोलकाता बुलाया था अभियुक्त कमलेश कुमार लोधी v राकेश कुमार पूर्व में भी एक साथ ड्राइवर का काम करते थे इसलिए दोनों में घनिष्ठता थी। कमलेश ने चालक राकेश से असम से गांजा आजमगढ़ तक पहुंचाने की पेशकश की तथा माल पहुंच जाने पर ₹30 हज़ार मिलने की बात कही थी। इस  ट्रक में डिब्रूगढ़ से गेल कंपनी का प्लास्टिक दाना लोड किया गया था जिसे कानपुर में उतरना था। इसी दाने के बीच में रोहता टाउन तेज पुर से गाजा लोड किया गया था। यह गांजा राकेश दादा और शाकिब द्वारा लोड कराया गया था, जिसे आजमगढ़ के पल्हना बाजार निवासी राजू गुप्ता के यहां देना था। यह गांजा संयुक्त रूप से बृजेश व राजू गुप्ता द्वारा मंगाया गया था और कमलेश ने इस सौदे की डील कराई थी, जिसके बदले में उसे ₹40 हज़ार मिलने थे। गिरफ्तार अभियुक्तों के विरुद्ध एनसीबी लखनऊ द्वारा अग्रिम विधिक कार्यवाही की जा रही है।

 इन अभियुक्तों को किया गया है गिरफ्तार

  1. राजू गुप्ता पुत्र त्रिवेणी गुप्ता उर्फ शिकारू निवासी महुआ खुर्द थाना देवगांव जनपद आजमगढ़।
  2. कमलेश कुमार लोधी पुत्र दुर्ग विजय सिंह निवासी भरतपुर थाना कुरावली जनपद मैनपुरी।
  3. बृजेश सिंह पुत्र जगदीश सिंह निवासी पलिया खास थाना नरही बलिया। 
  4. राकेश कुमार मौर्य पुत्र मातादीन मौर्य निवासी गिरी हाजीपुर थाना कादीपुर सुलतानपुर।

 यह सामान किए गए हैं बरामद

  1. अवैध मादक पदार्थ गांजा 520 किलोग्राम जिसका अंतरराष्ट्रीय बाजार भाव लगभग 1.30 करोड़ रुपए है। 
  2. एक आदत ट्रक नंबर WB23 E3763
  3. 7 मोबाइल फोन
  4. तीन आधार कार्ड
  5. एक ड्राइविंग लाइसेंस
  6. ₹6500/ नगद