किसी भी संस्था के 100 वर्ष पूर्ण होना गौरवशाली क्षण : डॉ दिनेश शर्मा

(फिरोजाबाद/VMN) कुछ लोग नागरिक सुरक्षा अधिनियम (CAA) को लेकर आम जनमानस में भ्रम की स्थिति पैदा कर रहे हैं और दुष्प्रचार कर रहे हैं। सड़क को रोकना न्यायालय की अवहेलना व नागरिकों के अधिकार का हनन है। सरकार इस सम्बन्ध में समय पे कार्रवाही करेगी। यह बात उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने फिरोजाबाद के एसआरके शिक्षण संस्थान के शताब्दी समारोह में कही। इस मौके पर केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव डॉ अनिल जैन भी मौजूद रहे।  शाहीन बाग से जुडे़ सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कुछ लोग सीएए को गलत तरीके से प्रस्तुत कर रहे है। 

डॉ शर्मा ने देश में अमेरिका के राष्ट्रपति के आगमन को लेकर कांग्रेस द्वारा उठाए जा रहे सवालों को गैर जरूरी बताते हुए कहा कि  कांग्रेस की मंशा है भारत मजबूत नहीं होने पाए इसीलिए वह भारत की सैन्य व्यवस्था और विदेशी कूटनीति पर सवाल उठाती रहती है। डॉ शर्मा ने कहा कि अमेरिका के साथ बेहतर सम्बंधों का लाभ भारत को ही मिलेगा। इसका हाल में उदाहरण देखने को मिला है जब अमेरिका  भारत पाकिस्तान से जुडे एक प्रकरण में भारत के पक्ष में खड़ा नजर आया । यह पीएम मोदी की कूटनीति की जीत थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को यह ध्यान में रखना चाहिए कि अमेरिका के साथ अच्छे सम्बंध भारत के हित में आवश्यक हैं।

उन्होंने उत्तर प्रदेश में नई पार्टी के आगमन व विस्तार से जुडे सवाल के जवाब में कहा कि इससे भाजपा पर नहीं बल्कि अन्य दलों  पर असर पड़ेगा। इस मौके पर संस्थान के बारे में उन्होंने कहा कि किसी भी संस्था के 100 वर्ष पूर्ण होना गौरवशाली क्षण है तथा यहीं वह समय है जब आगे की रूपरेखा पर विचार किया जा सकता है। कोई भी संस्था जो शिक्षा के क्षेत्र 100 वर्ष पूरे करती है जरूर उसने शिक्षा पर विशेष बल दिया होगा। इस अवसर पर पुरातन छात्रों  का सम्मान किया गया। सम्मान पाकर छात्रों की आंखों की चमक बता रही थी कि इन छात्रों ने अपने अपने क्षेत्र में विशिष्ट दर्जा हासिल किया है। 

भारतीयों की क्षमता का लोहा आज मान रहा है अमेरिका… 

विदेश यात्रा के अपने अनुभव को साझा करते हुए डॉ शर्मा ने कहा कि  पहले हिन्दुस्तान के लोगों को विदेश में कमजोर और गरीब माना जाता था पर मोदी सरकार के आने के बाद इस धारणा में बदलाव आया है। भारतीयों की क्षमता का लोहा आज अमेरिका भी मान रहा है। अमेरिका के राष्ट्रपति भी यह कहते है कि इन भारतीयों से बचकर रहना कहीं यह अमेरिका  के लोगों के रोजगार को छीन न लें।